भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

'अंतर की अकलुष स्नेह-वृत्ति कब हुई मृषा! / प्रथम खंड / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


'अंतर की अकलुष स्नेह-वृत्ति कब हुई मृषा!
तन मिलता उससे जिससे मन की बुझी तृषा
सेवा-वंचित यह, आर्य! आपकी खिन्न दशा
मैं दूँगी इन सूखे अंगों में सुरभि बसा
जो असमय कुम्हलाये हैं
. . .

दिन भर तप कर रवि-से लौटोगे, जभी गेह
मैं संध्या-सी देहरी-दीप में भरे स्नेह
अर्पित कर दूँगी यह नामांकित सुमन-देह
मैं बरस, बिखर, जैसे पावस का प्रथम मेंह
अंतर मधु से भर दूँगी'
. . .