भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

'इक इक करके सबने ही मुंह मोड़ लिया / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक इक करके सबने ही मुंह मोड़ लिया
इस दुनिया से अपना नाता तोड़ लिया

जहाँ से लौट के आना भी है नामुमकिन
ऐसे जग से अपना रिश्ता जोड़ लिया

जिस्म लगे बेजान मगर हम जीते हैँ
हम से सब ख़ुशियों ने रिश्ता तोड़ लिया

पत्थर तो बदनाम बहुत है ज़ख्मो मे
हमने तो शीशे से ही सर फोड़ लिया

घुट घुट कर आंसू की बूँदें पीते है
क़तरों ने नदियां से रिश्ता जोड़ लिया

जब तक न टूटे सांसों कि डोर सिया
मैंने राम के नाम से रिश्ता जोड़ लिया