भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँखियाँ बाँचें / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
धरा-अधर
धरा रवि -चुम्बन
प्रीत मगन
2
अँखियाँ बाँचें
बादल बने पाती
मैं उड़ आती ।
3
खूँटी-ये आँखें
तेरी हैं प्रियतम
टँगा है मन ।
4
उलझी जुल्फें
मतवारा है दिल
प्यारा-सा तिल ।
5
नींद सौतन
प्रीत हठी तिहारी
मैं बलिहारी।
-0-