भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँगना में पोखरि खनायल / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अँगना में पोखरि खनायल
छठि मैया अयतिन आइ
दुअरा पर तमुआ तनायल
छठि मैया अयतिन आइ
अंचरा सॅ गलिया बोहारब
छठि मैया अयतिन आइ
केरबा के आनबै डाला भरी
तै पर पियरी ओढ़ायब
छठि मैया अयतिन आय हे
हाथी पर कलषा बैठायब
तै पर दीया जगमगाय
छठि मैया अयतिन आइ।