भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँधेरी शब में हवा से नज़र मिलाते हुए / दिनेश कुमार स्वामी 'शबाब मेरठी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अँधेरी शब में हवा से नज़र मिलाते हुए
मैं बुझ न जाऊँ कहीं ख़ुद को आज़माते हुए

वो कौन है मुझे आवाज़ क्यों नहीं देता
मैं सुन रहा हूँ जिसे ख़ुद में गुनगुनाते हुए

मेरे ही साथ मुझे जिसके पास जाना है
वो चल रहा है मुझे रास्ता बताते हुए

अँधेरा ढँकना है रंगीन इश्तिहारों से
उसे ख़्याल था शायद ख़बर लगाते हुए