भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अंकाल / नूतन प्रसाद शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम सब ला बिगाड़े बर तयं आथस रे अंकाल
तोर आये ले दुनिया के होथे बुरा हाल

तोर नाव नई लेवय कोई निरलज आथस आगू
लात शरम ला बेच डरे हस,पहिरे छल के साजू
पर हित ल तयं छोंड़ केच लथसबेईमानी के चाल
हम सब ला बिगाड़े बर तयं आथस रे अंकाल

बैरी तोर आये ले होथय, तन लकड़ी मुंह पिंवरा
रोना-करलई ल नई सुनस, होगेस तयं भैरा
झींका -पुदगा मं मिलथे का परोसे थाल
तोर आये ले होथय ऐ दुनिया के बुरा हाल

चिरई रूख मइनखे अउ गरूवा,तोर ले बड़ घबराथे
धरती माता पानी बिन रोथे अउ लुलवाथे
निरदई काबर फैलाथस तयं जीव जाये के जाल
हम सब ला बिगाड़े बर तयं आथस रे अंकाल

जग मं आगी भभका के तयं का पाथस अज्ञानी
अपने भर मुड़पेलवा करथस,हस बड़ अभिमानी
हृदय तोर जुड़थे, जब तयं हमला करथस कंगाल
तोर आये ले होथय ऐ दुनिया के बुरा हाल

बने समय देतेस त का हाथ मं परतिस फोरा
हरियर-हरियर सुघ्घर दिखतिस-धरती मां के कोरा
घेरी-बेरी घुमत रहितिस,ओ लइका के गाल
हम सब ल बिगाड़े बर तयं आथस रे अंकाल

कलहर-कलहर लइका रोथय, बुढ़वा आंखी मं पानी
मुड़ गड़ियाके सांसों करथे, सिसकत हे जवानी
नास करे बर तोर जभड़ा हा हे विकराल
तोर आये ले होथय ऐ दुनिया के बुरा हाल