भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंकुर / विजेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो खाली है
उस को भर दो
बालक हो तुम
जल है जीवन
प्यासों की
तिरसा को हर दो।
मिट्टी से फूटा है अंकुर
विभा फैलती
आती देखी
अमर नहीं
पर अमृत कर दो।