भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगनामे घुमि-घुमि सीता बेटी कानथि / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अंगनामे घुमि-घुमि सीता बेटी कानथि, आजुक दिनमा सुदिन
आरे बाप-पित्ती केर पयर धय हे कानथि, तइयो दिन लेल मानि
आरे माय पितिआइनि केर गर धय हे कानथि, तइयो देल डोलिया पइसाय
आरे संगी बहिनपा केर गर धय हे कानथि, तइयो देल पनिया पिआय