भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंगारों के तकिये रखकर / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अंगारों के तकिए रखकर
हम बारूदों के घर सोये

सन्नाटों के जल में हमने
बेचेनी के शब्द भिगोये

टी-हाऊस में शोर-शराबा
जंगल में सन्नाटा रोये

एक कैलेंडर खड़ा हुआ है
तारीख़ों का जंगल ढोये

हाथ में आए शंख-सीपियाँ
हमने दरिया खूब बिलोये

दिन का बालक सुबह-सवेरे
धूप के पानी से मुँह धोये

चौराहे पर खड़ा कबीरा
जग का मुजरा देखे, रोये