भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंग्रेजी टयूसण / रूपसिंह राजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर आली एक दिन,
जद घरां आई हांड।
बोली, अंगरेजी पढस्यूं,
पढासी मैडम टांड।
दो चार दिन चाल्यो टयूसण।
फैल गयो संस्कृतियां गो प्रदूसण।
दोन्यूं हो गयी चूंडम-चूण्डा।
गंदी गाळ काढै बोलै भूण्डा।
टयूसण गै असर,
तो कर दीयो कांड।
आ बीनै कैवै 'बल्लडी फूल',
बा ईनै कैवै कुत्ती रांड।