भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अकड़ गई गरदन सर्दी से, कहने को है ऊँचा सर / विजय किशोर मानव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राम जाने हुआ क्या है इस शहर को
अमृत का दर्जा मिला है हर ज़हर को

गर्म होता ही नहीं सूरज यहां अब,
बर्फ़ ने ऐसा कसा है दोपहर को

मंुह चिढ़ाते खिलखिलाते फूल काग़ज़ के
काठ मारा है हिना को, गुलमुहर को

आग है, लेकिन धुएं में रोशनी गुम
घुप अंधेरा बांध लेता है नज़र को

पानी बनकर आग बहती है नदी में
छोड़ देता है किनारा तक लहर को