भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अक़्ल पहुँची जो रिवायात के काशाने तक / एहतिशाम हुसैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अक़्ल पहुँची जो रिवायात के काशाने तक
एक ही रस्म मिल काबा से बुत-ख़ाने तक

वादी-ए-शब में उजालों का गुज़र हो कैस
दिए जलाए रहों पैग़ाम-ए-सहर आने तक

ये भी देखा है कि साक़ी से मिला जाम मगर
होंट तरसे हुए पहुँचे नहीं पैमाने तक

रेगज़ारों में कहीं फूल खिला करते हैं
रौशनी खो गई आ कर मिरे वीराने तक

हम-नशीं कट ही गया दौर-ए-ख़िज़ाँ भी आख़िर
ज़िक्र फूलों का रहा फ़स्ल-ए-बहार आने तक

सारी उल्झन है सुकूँ के लिए ऐ शौक़ ठहर
ग़म का तूफ़ान-ए-बला-ख़ेज़ गुज़र जाने तक

ज़ेहन मायूस-ए-करम शौक़-ए-नज़ारा सरशार
होश में कैसे रहूँ उन का पयाम आने तक

ज़ख़्म यादों के महकते हैं कि आई है बहार
है ये दौलत ग़म-ए-दौराँ की ख़िजाँ आने तक

बे-नियाज़ी है तग़ाफ़ुल है कि बे-ज़ारी है
बात इतनी तो समझ लेते हैं दीवाने तक

ज़िंदगी ग़म से उलझती ही रहेगी हमदम
वक़्त की ज़ुल्फ़ गिरह-गीर सुलझ जाने तक

मंज़िल-ए-राह तलब थी तो कहीं और मगर
रूक गए ख़ुद ही क़दम पहुँचे जो मय-ख़ाने तक