भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अकाल / जितराम पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेत के मुआर छिलातिया
जइसे छुरा से
कपार के बार छिलाला,
पइनि-अहरा-नहर
नेता लोग के बात लेखा
खाली बा
अकाल के उदन्त भँइसा
चरि गइल फसल,
किसान हाथ भींजता,
अब बेटी के गवना के नियार
फेरे के परी,
पेटो खातिर
कवनो साहू-हाकिम के
उटकेरे के परी,
धिया के लुगरी
अबकी अगहने झाँवर हो जाई,
ओकर सोनहुला रंग
अवरु साँवर हो जाई
दियरी के बाती,
छठि के अघरौटा
बिसुखि गइल
राकस नियन मुँह बवले
महँगी के काल आइल बा
अनेरे लोग कहता कि अकाल आइल बा।