भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अकासवाणी / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुरसी पर बैठ्यै
सरकार चलावणियै रै
काको जी री दुकान !
बो चावै तो
सतर मरयां नै
सात बतावै
अर
विपक्ष रा सात विधायक
दळ बदळै तो
सत्तर कै‘यां बी
धाप नीं आवै
लोग
उण पिंपिलियै नै
रेडियो बतावै
पण
बो खुद नै
आकाशवाणी बतावै।