भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अकेले होने का ख़ौफ / जुबैर रिज़वी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमें ये रंज था
जब भी मिले
चारों तरफ़ चेहरे शनासा थे
हुजूम-ए-रह-गुज़र बाहों में बाहें डाल कर चलने नहीं देता
कहीं जाएँ
तआकुब करते साए घेर लेते हैं
हमें ये रंज था
चारों तरफ़ की रौशनी बुझ क्यूँ नहीं जाती
अँधेरा क्यूँ नहीं होता
अकेले क्यूँ नहीं होते
हमें ये रंज था
लेकिन ये कैसी दूरिया
तारीक सन्नाटे की इस साअत में
अपने दरमियाँ फिर से चली आई