भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अक्स जब आईने में मरता है / सूरज राय 'सूरज'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अक्स जब आईने में मरता है।
तब ख़ुदी का नशा उतरता है॥

लौट आता है आसमां छूकर
दर्द जब भी उड़ान भरता है॥

ऐ ग़मे-दिल जो तू नहीं है तो
पल ख़ुशी का भी हो, अखरता है॥

ग़र्दिशों में भी लड़कपन दिल में
कौन है जो दुआएँ करता है॥

ऐसा लगता है कमरा-ए-दिल में
रात इक अजनबी ठहरता है॥

हाँ तआरुफ़ नहीं हैं "सूरज" से
बस मेरी राह से गुज़रता है॥