भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगरचे इश्क़ में इक बे-ख़ुदी सी रहती है / 'शमीम' करहानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगरचे इश्क़ में इक बे-ख़ुदी सी रहती है
मगर वो नींद भी जागी हुई सी रहती है

वही तो वजह-ए-तआरूफ़ है कोई क्या जाने
अदा अदा में जो इक बे-रूख़ी सी रहती है

बड़ी अजीब है शब-हा-ए-ग़म की ज़ुल्मत भी
दिए जलाओ मगर तीरगी सी रहती है

हज़ार दर्द-ए-फ़राएज़ हैं और दिल-ए-तन्हा
मिरे ख़ुलूस को शर्मिंदगी सी रहती है

‘शमीम’ ख़ून-ए-जिगर से उभारिए लेकिन
हर एक नक़्श में कोई कमी सी रहती है