भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगरचे दिल को ले साथ अपने आया अश्क मिरा / बाक़र आग़ा वेलोरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगरचे दिल को ले साथ अपने आया अश्क मिरा
निगाह में तिरी हरगिज़ न भाया अश्क मिरा

मैं तेरे हिज्र में जीने से हो गया था उदास
पे गर्म-जोशी से क्या क्या मनाया अश्क मिरा

हज़र ज़रूरी है ऐ सर्व-ए-नाज़ इस से तुझे
कि आबशार-ए-मिज़ा का बहाया अश्क मिरा

हुआ है कौन सै ख़ुर्शीद-रू से गर्म इतना
कि मेरे दिल को जो ऐसा जलाया अश्क मिरा

ब-रंग-ए-ग़ुंचा-ए-अफ़्सुर्दा हो गया था ये दिल
सो वैसे मुर्दा को पल में जलाया अश्क मिरा

हुआ वो जब नज़र-अंदाज़ यार का ‘आगाह’
मुझे ये बे-असरी पर हँसाया अश्क मिरा