भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगरसैर से आयौ दर्जी सों / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगरसैर से आयौ दर्जी सों
हँस-हँस पूछें शहजादे की मैया
कहा जौ लैहो बागे की सिलाई।
अलियन कलियन रूप रूपैया
सो बागौ सिलाई की मुहर अढ़ाई।
अगरसैर से आयौ मलिया सों
हँस-हँस पूछें बनरा की चाची
कहा जौ लैहों सेहरे की बनाई।
अलियन कलियन रूप रूपैया
सो सेहरौ बनाई की मुहर अढ़ाई।
अगरसैर से आयौ गंधी सों
हँस-हँस पूछें बनरा की भौजी
कहा जो लैहौ सुरमा की बनाई
इंकन सीकन रूप रूपैया
सो सुरमा बनाई की मुहर अढ़ाई।
अगरसैर से आयौ सुनरा कौं
हँस-हँस पूछें बनरा की बुआ
कहा जौ लैहो कंठी की गुँजाई।
आनिक मानिक रूप रूपैया
सो कंठी गुँजाई की मुहर अढ़ाई।
अगरसैर से आयौ बजाज कौ
हँस-हँस पूछें शहजादे की बैना
कहा जो लैहो पीताम्बर की लाई।
ओरन छोरन रूप रूपैया
सो पीताम्बर की मुहर अढ़ाई।