भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर आप दिल से हमारे न होते / राजश्री गौड़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर आप दिल से हमारे न होते,
मुहब्बत के दिल को सहारे न होते।

तसव्वुर में तुमको न रखते छुपा कर,
हमारे न तुम, हम तुम्हारे न होते।

कि बढ़ जाते अन्जान राहों पर हम तो,
अगर तुम हमें यूँ पुकारे न होते।

पसीने की स्याही से न लिखते इरादे,
अगर हम मुकद्दर के मारे न होते।

मर जाते हम तो जहर पीते-पीते,
जो तुम दिल की दुनिया संवारे न होते।

वजूद अपना खो देती बहती नदिया,
अगर इसके ये दो किनारे न होते।

इबादत न फूलों की मंज़ूर होती
अगर चाँद, सूरज,सितारे न होते।