भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर दौलत भी शामिल हो तो दौलत भी कमाती है / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर दौलत भी शामिल हो तो दौलत भी कमाती है ।
वगर्ना सिर्फ़ मेहनत सिर्फ़ मेहनत ही कराती है ।

सवेरे दस बजे से रात के बारह बजाते हो,
हमें भी भूख लगती है हमें भी नींद आती है ।

अक़ीदे के कुएँ से उसको बाहर खींचता हूँ जब,
न जाने क्यों मेरे हाथों से रस्सी छूट जाती है ।

अगरचे डर है लेकिन आज़माते हैं ये नुस्ख़ा भी,
ज़रा देखें हमारी बेरुख़ी क्या रंग लाती है ।

वो अज़्मत है कि चाहें तो क़दमबोसी करे दुनिया,
मगर इक भूख के आगे वो अज़्मत हार जाती है ।