भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अगर मस्जिद में ऐ ज़ाहिद वो मस्त-ए-नीम-ख़्वाब आवे / 'सिराज' औरंगाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर मस्जिद में ऐ ज़ाहिद वो मस्त-ए-नीम-ख़्वाब आवे
तिरे हर दान-ए-तस्बीह में बू-ए-शराब आवे

फ़जर हुई मुंतज़िर हूँ क़ासिद-ए-बाद-ए-सबा का मैं
किताबत आह की भेजा हूँ अब शायद जवाब आवे

ग़ज़ल-ख़्वाँ गर ख़ुश-आवाज़ी सीं आवे मुझ तरफ़ मोहन
रग-ए-जाँ सीं सदा-ए-नग़म-ए-तार-ए-रूबाब आवे

बजा है गर तुम्हारे नक्‍श-ए-पा की धूल उड़ने सीं
हर इक ज़र्रे का इस्तिक़बाल लेने आफ़्ताब आवे

अजब क्या नेमत-ए-दीदार साक़ी देख आँसू सीं
हमारे दीद-ए-नादीदा के मुँह में लुआब आवे

गुल अपने रंग पर मग़रूर बेजा है तिरे होते
पसीना लावे शबनम का अगर उस कूँ हिजाब आवे

‘सिराज’ उस कद्द-ए-मौजूँ के तसव्वुर में तअज्जुअ नहीं
कि फ़िक्र-ए-सरसरी सेती हर एक फ़र्द इंतिख़ाब आवे