भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अच्छे दिनों में क्या सब कुछ अच्छा होगा / कृष्ण कल्पित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अच्छे दिनों में क्या सब कुछ अच्छा होगा

जितने भी बुरे कवि हैं
वे क्या अच्छे दिनों में अच्छे कवि हो जाएँगे

क्या हत्यारे अच्छे हत्यारे पुकारे जाएँगे

क्या डाकू भी सुल्ताना डाकू जैसे अच्छे और नेक होंगे

क्या वेश्याओं को गणिकाएँ कहा जाएगा अच्छे दिनों में

जिसका भी गला रेता जाएगा
अच्छे से रेता जाएगा अच्छे दिनों में

बुरे भी अच्छे हो जाएँगे अच्छे दिनों में

आएँगे
ज़रूर आएँगे अच्छे दिन
किसी दिन वे धड़ाम से गिरेंगे आकर !