भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अजब मअरका / राशिद जमाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये मअरका भी अजब है
कि जिस से लड़ता हूँ
वो मैं ही ख़ुद हूँ
रजज़ मिरा
मिरे दुश्मन के हक़ में जाता है
जो चल रहे हैं वो तीर ओ तुफ़ंग अपने हैं
जो काटते हैं वो सामान जंग अपने हैं
मैं सुर्ख़-रू हूँ तो ख़ुद अपने ख़ूँ की रंग से
मैं आश्ना हूँ
ख़ुद ईज़ा-दही की लज़्ज़त से
अजीब जंग मिरे अंदरूँ में चिड़ती है
मिरी अना मिरी बे-माएगी से लड़ती है
मैं बे-ज़रर हूँ
बस अपने सिवा सभी के लिए