भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अणबसी / राजू सारसर ‘राज’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अणबसी री पूंजी
भेळी करियां
बगत रा बेटां साथै
हथाई करतोड़ौ
डोकरो डील
हंकारो नीं करै
पण
मोदीलै मन रै
कियां कियां
नादीदा नैण
देखै सुरंगां रा सुपना
जद चालणों पडै़
जमानै री हाट माथै
कांईं करै
जायोड़ा री नीं राखै
तो किण री राखै।