भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अति लौने सखि! लली-ललन री! / स्वामी सनातनदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग कामोद, धमार 26.9.1974

अति लौने सखि! लली-ललन री!
कहा कहौं तिन की सुघराई, लखि लाजहिं रति-कोटि मदन री।
दोउ की रति दो उनमें अति अनुपम, दोउ के मन दोउ की उरझन री।
दोउ पृथक हूँ नित अपृथक् सखि! दोउ को दोउ की लगी लगन री॥1॥
दोउ चकोर दोउ चन्द्र परस्पर, दोउ के दोउ में लगे नयन री।
दोउ सरोज दोउ सरवर नीके, दोउ के तन में एकहि मन री॥2॥
प्रीति पगी अनुपम यह जोरी, प्रीति स्वयं धारे द्वै तन री।
प्रीतिमयी कलकेलि दोउन की, करहिं प्रीति हीको वितरन री॥3॥
कहा कहें सुहाग सखि अपनो, जिन पाये ये प्रीति-रतन री।
हमहूँ रंँगी प्रीति के रँगमें, भूलि गयी तन मन जन धन री॥4॥
सब कछु दै हमहूँ सब पायो, रह्यौ कहा अब करन-धरन री।
सब के फल, सबके सरबसु हैं, सखि ये स्यामा स्याम-बरन री॥5॥