भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अधूरे / अशोक कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने ईमानदारों में ईमानदार खोजा
धार्मिकों में धार्मिक
ईमानदार भी थोड़ा बेईमान था
धार्मिक भी थोड़ा विधर्मी
मैंने आस्तिकों में आस्तिक ढूंढा
नास्तिकों में नास्तिक
आस्तिक थोड़े नास्तिक निकले
नास्तिक थोड़े आस्तिक
मैंने सच्चों में सच्चा खोजा
झूठों में झूठा
सच्चे थोड़े झूठे थे
झूठे थोड़े सच्चे
मैंने पुरुषों में पुरुष तलाशा
स्त्रियों में स्त्रियाँ
पुरुष किंचित स्त्रैण निकले
स्त्रियाँ थोड़ी मर्दानी
मैंने दुनिया खोजी
दुनिया में पूरी दुनिया कहाँ थी।