भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनकही कहानी / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जितने दिन मिले मुझे
सब मैंने बो दिए
धुँधले नक्षत्र सभी
गीत में पिरो दिए

पग-पग पर मिला मुझे
लावारिस धोखा
कितना-कुछ दिया उसे
क्या लेखा-जोखा

छलना ने छला जहाँ
अपने पर रो दिए

एक ज़हर की शीशी
अनकही कहानी
घोल गई नस-नस में
रंग आसमानी

अब कैसे उभरें जब
कण्ठ तक डुबो दिए