भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अनपढ़ बन्दर का ब्याह / दीनदयाल शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनपढ़ बन्दर बोला -- मम्मी
मैं भी ब्याह कराऊँगा
सुन्दर-सी इक प्यारी बन्दरिया
मैं इस घर में लाऊँगा

उसकी मम्मी बोली -- बेटा
सुन लो मेरी बात
पढ़े नहीं गर दो अक्षर तो
जाएगी नहीं बरात ।।