भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनभिज्ञ चिड़िया / भावना कुँअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक चिड़िया

आयी फुदकती सी

नाज़ुक सी, चंचल सी

अपनी मस्ती में मस्त सी

बेपरवाह

स्वछन्द

अनभिज्ञ सी

अपनी सपनों की दुनिया में

खोई सी

अचानक रुकी

डरी, सहमी

भय से

विस्फरित आँखें

एक झटका सा लगा

और कदम वहीँ रुक गए

साहस जुटाया

पर धैर्य टूट गया

बचना चाहा

पर गिर पड़ी

साँसे बिखरने लगीं

शरीर बेज़ान होने लगा

पल भर में ही

सारी चंचलता, कोमलता

नष्ट हो गयी

न जुटा पायी साहस

उस दीर्घकाय परिंदे से

खुद को बचाने का।