भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनहद सुख / शांति सुमन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह जो चमक रहा है दिन में
अपना ही घर है

छत के ऊपर कटी पतंगें
दौड़ रहे हैं बच्चे
सूखे कपड़ों को विलगाकर
खेल रहे हैं कंचे

यह जो बेच रहा है टिन में
गुड़ औ’ शक्कर है ।

एक-एक रोटी का टुकड़ा
एक-एक मग पानी
फिर भी रोती नहीं सविता
नानी की हैरानी

यह जो सोच रहा है मन में
असली फक्कड़ है ।

नंगे पाँव चले बतियाने
इस टोले, उस टोले
कीचड़ को ही बना आइना
उझक-उझक डोले

यह अनहद सुख जागा जिनमें
वह तो ईश्वर है ।