भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनुराग / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थम गई गति
कुछ सोच रहा हूँ
रुका नहीं हूँ
पहचान रहा हूँ

अर्थ खो चुकीं
चीज़ें, घटनाएँ
दुख, आह्लाद

हो गया सबसे
परे अवसाद

सुख धीमा-बेस्वाद
हर रोज़ की सुबह-सा
उगा, उठा और डूब गया

बैठा किनारे को
अवलोकता-सा निस्पृह

दुख
गुज़रती हवा के
गर्म झोंके-सा

व्यापक एक भाव
शान्त-
बुद्ध का हो जैसे हाथ
शिव का हो
जैसे अनुराग