भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनुहार / अशेष मल्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिहान सबेरै
उठेर ऐना हेरेँ
चर्किएको थियो
थाहा भएन
मेरो अनुहार चर्किएको थियो
कि ऐना
किन चर्किन्छ
यसरी एकाएक
अनुहार कि ऐना
कि बेहोस छु म
नत्र कि बेहोस छ ऐना
किन चर्किन्छ
केवल अनुहार
एकाएक बिहान ?
 हुन सक्छ
रातभर पाप रचेपछि
ऐनाझैँ चर्किन्छ अनुहार ।