भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्धे जहान के अन्धे रास्ते / शैलेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अन्धे जहान के अन्धे रास्ते, जाएँ तो जाएँ कहाँ
दुनिया तो दुनिया तू भी पराया, हम यहाँ न वहाँ

जीने की चाहत नहीं, मर के भी राहत नहीं
इस पार आँसू, उस पार आहें, दिल मेरा बेज़ुबाँ

हमको न कोई बुलाए, न कोई पलकें बिछाए
ए ग़म के मारो, मंज़िल वहीं है, दम ये टूटे जहाँ

आगाज़ के दिन तेरा अंजाम तय हो चुका
जलते रहे हैं, जलते रहेंगे, ये ज़मीं-आसमाँ

फ़िल्म : पतिता-1953