भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अन्हरिया / देहरी / अर्चना झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आय घूप्प अन्हरिया छितरैलोॅ छै
मोॅन बौखलैलो छै
किरण जेना की बागी होय गेलोॅ छै
आरो जेठोॅ नाकी दिल तपी रहलोॅ छै
हर तरफ लाशे-लाश छै
हमरोॅ सपना के
कैह्नै कि हम्मे बेटी छिकिएॅ