भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अपना भी वही है जो हर शख़्स का क़िस्सा है / कांतिमोहन 'सोज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नए साल की यह पहली ग़ज़ल कर्ण सिंह चौहान की नज़्र

अपना भी वही है जो हर शख़्स का क़िस्सा है ।
दुःख सहना सुखी रहना ये प्यार का हिस्सा है ।।

आएगा तो बिछड़ेगा बिछड़ेगा तो दुःख देगा
फिर भी मेरा दिल उससे मिलने को तड़पता है ।

इस दर से न जाऊँगा मैं नैन बिछाऊँगा
देखूँगा तेरा रस्ता आखिर तेरा रस्ता है ।

अब कोई भला समझे या कोई बुरा माने
धागा है तो धागा है रिश्ता है तो रिश्ता है ।

खुश रहना मेरे यारो मत सोज़ के ढिंग आना
यां सोज़ का आलम है बादल-सा बरसता है ।।

8 जनवरी 2015