भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अपराधी / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किससे करूं शिकायत
                    मेरा हिरना मन अपराधी

ओ अलगोजे
आलाप उठे तुम तो
रागों के मानसून
बह गए दिशाओं ,
                    मेरी ही #तृष्णा पी गई
स्वरों के सात समंदर
किससे करूं शिकायत
                    मेरा हिरना मन अपराधी

ओ शिखरों के सूरज
कोलाहल के पांवों उतरे तुम
गली-गली में
आंज गए उजियारा
                    बंद किवाड़े किये रही
मेरी ही घाटी
किससे करूं शिकायत
                    मेरा हिरना मन अपराधी

पोर-पोर से
दुनिया रूप गए तुम तो
माटी के आंगन
                    फेर गई उलटी हथेलियां
मेरी पुरवा-पछवा
किससे करूं शिकायत
                    मेरा हिरना मन अपराधी

दे गए मुझे तुम
पीपल से कागज
झलमलती स्याही
मोर पांख दे गए लेखने
                    बरफ़ हो गई लिखने से पहले
मेरी ही भाशा
किससे करूं शिकायत
                    मेरा हिरना मन अपराधी