भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपशगुन / शबरी / अमरेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हे गुरू, ऊ स्वप्न केन्होॅ घोर,
सच हुऐ नै पारेॅ, करिया भोर!

सब दिशाहे घूरतें जों प्रेत,
आगिनोॅ केॅ छै उड़ैतेॅ रेत।

सुखलोॅ कुइयां पोखरो, घट-घाट,
छै रसातल में धसैलोॅ पाट।

टूटलोॅ छै वेदी रोॅ सब भोर,
डैनियो सेॅ क्रूर करिया भोर।

ब्रह्मबेला मेॅ कपसवोॅ-शोर,
की अघट लैये केॅ ऐतै भोर।

हे गुरू ई केन्होॅ करिया घोर,
आँख में पत्थर बनी छै लोर।

भोर के ई वक्तिये मेॅ
के विकट सम्वाद दै छै,

साधना के ही क्षणोॅ मेॅ
अस्त्र फेकी प्राण लै छै?