भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / बिम्बसार 1 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिम्बसार की आँखें
       खोज रहीं सूरज को

अंधा है बन्दीगृह
रात घनी काली है
बाहर है शोर बहुत
घर-घर दीवाली है

रौंद रहा करि कोई
        खिले हुए पंकज को

पुत्र है अजातशत्रु -
वही शत्रु आज हुआ
तड़प रहा साँसों का
पिंजरे में बंद सुआ

पूजा था नृप ने कल
        गौतम के अचरज को

बुद्ध ने कहा था यही -
'शत्रु-मित्र कोई नहीं
मन में क्यों फिर, राजन
विष की धाराएँ बहीं

खुला क्षितिज होने दो
         मन के इस कुंभज को'