भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / राहुल 5 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राहुल फिर
नहीं डिगे
उनका मन शांत हुआ

देहराग ने उनको
फिर नहीं अशांत किया
अमृतरस जो झरता है भीतर
वही पिया

कामना
व्यथाओं ने
फिर उनको नहीं छुआ

सबके प्रति
नेहभाव जागा था एक नया
अर्हत हो गये शीघ्र
पालन कर जीवदया

और मृत्यु
आई जब
हुए प्राण-मुक्त सुआ