भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अप्प दीपो भव / सुजाता 2 / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन सुजाता के अधूरे हो गये

एक शून्य व्यापा
हर काम में
लोप हुईं इच्छाएँ
आँखें भी पथराईं
जो थीं
रतिपत्र-लिखीं कविताएँ

भोग सारे कनखजूरे हो गये

सोनजुही देह हुई
जंगल ज्यों
जले-हुए बाँसों का
सोच नहीं पाती वह
क्या करे
साँसों में चुभी हुई फाँसों का

स्वप्न सारे सड़े घूरे हो गये

बुझे सभी
घर-आँगन के सूरज
और फूल मुरझाये
अचरज जो रचते थे
पूनो के चाँद -
वही बौराये

आम्र-कदली वन धतूरे हो गये