भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब तलक ये समझ न पाए हम / प्रखर मालवीय 'कान्हा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब तलक ये समझ न पाए हम
ग़म तिरा क्यूँ ख़रीद लाये हम?

इक हवेली थी मोम की अपनी
छत पे सूरज उतार लाये हम

इक तबस्सुम की चाह में जानां
लुट गये उफ़ ! बसे बसाये हम

अब भी बेवक़्त मुस्कुराते हैं
तेरे हाथों के गुदगुदाये हम

उम्र भर ढूंढते रहे ख़ुद को
ख़ुद से इक आइना छुपाये हम