भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब दिन शाला चलने के / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब दिन शाला चलने के...

बीते दिन लड़ने-भिड़ने के,
अब आए दिन पढ़ने के।

छोड़ो अब तो गुड्डा-गुड़िया,
अब दिन कलम पकड़ने के।

घर में रहकर रोने-धोने,
अब दिन गए मचलने के।

कलम-किताबें बस्ता लेकर,
अब दिन शाला चलने के।