भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब न रहो दूर / राधेश्याम बन्धु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

याद की मुंडेरी पर
टेर रहा
द्वार-द्वार मधुऋतु का प्यार,
अब न
रहो दूर खिले आँगन कचनार ।
 
सरसों को रिझा रही
अलसी की डालियाँ,
मेढों पर इठलाती
गेहूँ की बालियाँ ।

बनजारिन
गन्ध लिखे पत्र बार-बार ।

कभी-कभी होती है
नयनों से बात,
उम्र भर महकती है
एक मुलाकात ।
 
करे रात
रात एक गन्ध इन्तजार।

याद की मुंडेरी पर
कागा का शोर,
भिगो-भिगो जाता है
काजल की कोर ।
 
सूनापन
राह तके खडे-खडे द्वार,
अब न
रहो दूर खिले आँगन कचनार