भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब भी / चंद्र रेखा ढडवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मेरे होने पर
कालिख मलते
मेरे पाँव तले से
रास्ते खींचते
स्याह अँधेरों में से
निकलना तो चाहती हूँ
पर रोशनी अब भी
कभी-कभार चमक जाते
जुगनुओं के पिछवाड़े
बोझ भर ही है.