भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब मुझे तय करने दो / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुमने हमेशा तय कीं
मेरी सीमाएं
मेरा होना नहीं होना भी

तुमने तय कीं
मेरे अंदर बाहर की
जिंदगी

मेरे तौर तरीके
बातचीत
मेरे दोस्त, मेरा परिवार भी
तय कर दिया तुमने

अब मुझे तय
करने दो

कि तुम्हें क्या

तय करना चाहिए, क्या नहीं...