भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभी तक / गंगाराम परमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्यार की भी जात है अभी तक
बहुत बड़ा आघात है अभी तक
रौशनी, रौशनी में हुआ, तो
वो बोले, रात है अभी तक
भूख, भेद, भाषा, भगवान तक
कितने सारे सवालात हैं अभी तक
ऊँच-नीच तो रहेगा ही, यहाँ
उनकी बिरादरी में बात है अभी तक
सूरज किसी के बाप का नहीं
हम भी आसमाँ सात हैं अभी तक
न चाहो तो भी, लड़ना पड़ेगा दोस्त
लड़ाई तो उनकी सौग़ात है अभी तक
तुम्हें आदम नहीं मानते वो
दाढ़ी-चोटी की जमात है अभी तक।