भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अभी निहारेगा कोई मुझको / प्रमोद तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इसी आस में
जीवन बीतेगा
अभी निहारेगा
कोई मुझको

टूट गये जन्मों के रिश्ते
पल भर में
हँसते ही हँसते
वैसे तो सच है
लेकिन विश्वास नहीं होता
आँखें भर आतीं
जब कोई पास नहीं होता
ज़रा संभालो
दरपन टूटे ना
अभी संवारेगा
कोई मुझको

एक था राजा
एक थी रानी
दोनों बिछुड़े
खतम कहानी
बचपन में इस सुनी कथा का
अर्थ नहीं जाना
किन्तु आज इसमें पाया
अपना ताना बाना
फिर भी पल-पल
मुड़-मुड़ देखा है
अभी पुकारेगा कोई मुझको