भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमरीका / विजय गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीवारें,
दिमाग़ में
उतर आईं,
दिल को,
दरवाज़ों ने
बंद किया,
छिपकलियाँ
दौड़ने लगीं
रगों में,
भर गए
आँखों में,
मकडि़यों के जाले

ख़बरें घिर चुकी थीं
विज्ञापनों से,
न्यूज़-चैनल पर
दिखा रहा था
छुपा हुआ कैमरा
नंगी की जा रही औरत को
औरत की निढाल आँखों में
दम तोड़ रहे थे किसान
डूब रहे थे गाँव
उड़ रहे थे
धमाकों से पहाड़
बाज़ार भर चुका था
सौंदर्य-प्रसाधनों, कीटनाशकों और
बीमार बीजों से

घर के भीतर
हर कमरे में
घुस आया था
अमरीका ।