भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमां! तूं मुंहिंजी आहीं रुॻो / कला प्रकाश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विढ़ियूं त अलाए छा तां
रूअंदियूं रूअंदियूं आयूं
वॾी चवे: अमां तूं मुंहिंजी आहीं न रुॻो?
अखियुनि मां टाह टाह ॻोढ़ा पिया ॻड़नि
चयुमि: हा मुंहिंजी सोनी, मां तुंहिंजी...
नंढीअ सुॾिको भरे चयो:
तूं स्मृतीअ जी आहीं रुॻो?
मुंहिंजी अमा न आहीं?

त मुंहिंजी अमा किथे आहे?
मूंखे केरु न प्यारु कन्दो न...
साक्षी, मुंहिंजी ॻाल्हि बुधु
न... बसि तूं चउ:
तूं मुंहिंजी आहीं रुॻो।

मुंहिंजियुनि अखियुनि मां ॻोढ़ा ॻड़ण लॻा
तव्हां सिरी आयूं वेझो
ॿिन्ही गडु पुछियो: अमा! तूं छो थी रोईं?
चयुमि: मूंखे अन्दर में
भगवान गु़स्सो थो करे
चवे थो: मूं तोखे
ॿ पोटियूं ॾिनियूं आहिनि
तूं हिक जी अमां कीअं थीन्दीअं?
स्मृती हिक अखि मां ॻोढ़ा उघी
साक्षीअ ॿीअ अखि मां
ॿई भाकिड़ी पाए चवनि थियूं:
अमा, तूं न रोउ
असां गाड खे चऊं था
तोते गु़स्सो न करे
तूं भली असां ॿिन्ही जी अमा थीउ
तोखे न चवंदियूंसीं त
अमा! तूं मुंहिंजी आहं रुॻो।

(ममता जूं लहरूं- 2006)